Home मंडी डबवाली महज 12 वर्ष के छात्र तनिश सेठी ने 3 एप डेवेल्प कर बनाया रिकॉर्ड

महज 12 वर्ष के छात्र तनिश सेठी ने 3 एप डेवेल्प कर बनाया रिकॉर्ड

10 second read
0
0
290

डबवाली
जिस उम्र में बच्चे पढ़ाई से अधिक मोबाइल पर गेम्स में अधिक रूचि लेते हैं उस दौर में तनिश ने तीन मोबाइल एप डेवेल्प कर दिए। महज 12 वर्ष की उम्र में 9वीं कक्षा के छात्र तनिश सेठी द्वारा रोजमर्रा के जीवन में उपयोगी तीन-तीन एप डेवेल्प कर उसे हैरान करने वाली उपलब्धि है। तनिश के पिता अजय सेठी सरकारी स्कूल में जेबीटी अध्यापक  हैं तो माता सरीना हैड टीचर है।
लॉकडाउन के दौरान घर पर खाली समय में उसे एक क्विज प्रतियोगिता में भाग लेते समय मोबाइल से ही पता चला कि मोबाइल एप भी बनाया जा सकता है। इसके बाद यूट्यूब से कुछ और जानकारी जुटाई और अपनी उम्र से बड़े मिशन को पूरा करने के लिए प्रयास करने लगा। कहा जाता है कि दृढ़ इच्छा से की जाने वाले प्रयास इंसान को कामयाबी की और अवश्य ले जाते हैं। तनिश को भी सफलता मिली और लिस्ट अप नाम से एक ऐसा एप डेवेल्प कर दिया जो कि उन सब लोगों के लिए उपयोगी साबित हो सकता है जो अक्सर छोटे-छोटे घरेलू व अपने ऑफिस के कार्यों को करना भूल जाते हैं। इस एप के जरिए उन कार्यों को मोबाइल में लिस्ट अप किया जा सकता है और उन्हें फिर एप अपनी मैमोरी में रखकर समय-समय पर मैसेज व अलार्म द्वारा याद करवाता है। इस एप को जब गूगल ने भी मान्यता दे दी तो यह प्ले स्टेार पर उपलब्ध हो गया। अब इस एप को हर कोई पसंद कर रहा है। तनिश का मिशन यहीं नहीं थमा। लिस्ट अप की सफलता ने उसका हौंसला बढ़ा दिया। इसके बाद उसने महज 14 दिनों में ही दो और मोबाइल एप डेवेल्प कर दिए है।  स्पीक इंडिया व स्पीक वल्र्ड नाम के  ये दो एप्स भी जबरदस्त हैं। स्पीक इंडिया में भारत देश के अलग-अलग राज्यों में बोली जाने वाली 10 भाषाएं हैं। इनमें हिंदी, अंग्रेजी के अलावा गुजराती, कन्नड, मलयालम, मराठी, नेपाली, तमिल, तेलगू, उर्दु व बंगाली आदि भाषाए हैं। इन भाषाओं को एप के माध्यम से किसी भी दूसरी भाषा में कन्वर्ट किया जा सकता है। इतना ही नहीं भाषा कन्वर्ट होने के बाद यह एप बोल कर भी उस शब्द अथवा वाक्य के बारे सुनाता है ताकि कोई उसे समझने में कोई दिक्कत ही न रहे। इसी प्रकार इंटरनेशनल ट्रांसलेटर एप स्पीक वल्र्ड में दुनिया भर की 92 भाषाओं को एक दूसरे में कन्वर्ट करने व बोल कर सुनने की सुविधा उपलब्ध करवाई है। ये दोनों एप्स भी अब गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हो चुके हैं। तनिश ने अपने एप्स के जरिए कमाल ही नहीं बल्कि लोगों का काम आसान भी कर दिया है। तनिश इस छोटी उम्र में चेस का भी बेहतरीन खिलाड़ी है व साल अगस्त 2019 में जिला स्तरीय चेस प्रतियोगिता में भी विजेता रह चुका है। भविष्य में बड़े साफ्टवेयर डेवेल्प करने का सपना संजोये है और तनिश की प्रतिभा को देखकर इस सपने को पूरा होने में कोई संदेह नहीं लगता।

Leave a Reply

Check Also

आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी को पुष्पांंजलि भेंट कर किया नमन

आजाद हिंद फौज क…