Home मंडी डबवाली तेजाखेड़ा में पड़दादा की दशकों से चली आ रही रवायात को पड़पोते ने रखा कायम

तेजाखेड़ा में पड़दादा की दशकों से चली आ रही रवायात को पड़पोते ने रखा कायम

8 second read
0
0
196
डबवाली।
इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जजपा के स्टार युवा नेता दिग्विजय सिंह चौटाला ने अपने परिवार के रीति रिवाज को जारी रखते हुए दिवाली से अगले रामरमी वाले दिन अपने पैतृक गांव चौटाला ,तेजाखेड़ा व भारूखेड़ा का दौरा किया व अपने गांव वासियों के बीच पहुंचे। इस संबंध में जानकारी देते हुए जजपा प्रवक्ता रणदीप सिंह मट्टदादु ने बताया कि जननायक चौ.देवीलाल जब दीवाली या होली पर घर आते तो अगले दिन लोग उन्हें राम राम करने आते और उसके बाद जननायक अपने गांव के जितने लोग पिछ्ले दिनों में स्वर्गवास हुए होते तो उनके परिवार के साथ सवेंदना प्रगट करने उन सब के घर जाते थे। इसी परंपरा को चो.देवीलाल परिवार ने दशकों से जारी रखा। पूर्व उपप्रधानमंत्री चौ.देविलाल के बाद उनके सुपत्र पूर्व मुख्यमंत्री ओ.पी चौटाला व उनके बड़े बेटे डॉ.अजय सिंह भी उनके दिखाए मार्ग पर चलते हुए इस परंपरा को जारी रखा। अब उनके पदचिन्हों पर चलते हुए उनके पड़पोत्र दिग्विजय सिंह चौटाला पिछले कई वर्षों से लगातार हर वर्ष दीपावली के अगले  राम रमी वाले दिन अपने पैतृक गांव चौटाला पहुंचते है और सभी से मिलकर उनका हालचाल जानते है। उन्होंने बताया कि हर वर्ष की तरह अबकी बार दिग्विजय सिंह चौटाला ने अपने दौरे की शुरुआत गांव चोरमार के ऐतिहासिक गुरुद्वारा साहब में माथा टेक कर बाबा गुरपाल सिंह जी से आशीर्वाद प्राप्त करके की। उन्होंने सभी संगतों को विश्वकर्मा दिवस की बधाई दी। उसके बाद व गांव मसीतां में कार्यकर्ताओं से मिले व उनकी रामरमी कबूल की और समस्याएं भी सुनी।
फिर गांव अबूबशहर में कार्यकर्ताओं से मिले और सब का हालचाल जाना।
उसके बाद दिग्विजय चौटाला गांव तेजाखेड़ा में अपने पड़दादा जननायक चौ.देविलाल की जन्मस्थली पर पहुंचे यहां उन्होंने जननायक की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया।वहां जब एक युवक फ़ोटो लेने के लिए आगे बढ़ा तो दिग्विजय सिंह चौटाला ने उसे रोका और उसे अपने जूते उतारकर अंदर आने को कहा उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल जी को हम सब और पूरे प्रदेश के लोग भगवान की तरह पूजते है उन्हें आदर सम्मान से नमन करना हमारा फ़र्ज़ है। इसके बाद पुरानी रिवायत को कायम रखते हुए दिग्विजय सिंह चौटाला ने तेजाखेड़ा, चौटाला व भारुखेड़ा में अपने गांव के लोगों के घर जाकर सवेंदना प्रकट की।
Load More By Sachdeva

Leave a Reply

Check Also

तेजाखेड़ा में पड़दादा की दशकों से चली आ रही रवायात को पड़पोते ने रखा कायम

डबवाली। इनसो क…