Home मंडी डबवाली ग्रीष्मावकाश को लेकर ये कुछ टिप्स होंगे उपयोगी और खुशनुमा ….

ग्रीष्मावकाश को लेकर ये कुछ टिप्स होंगे उपयोगी और खुशनुमा ….

12 second read
0
0
1,204

मैं आचार्य रमेश सचदेवा, डायरेक्टर-प्रिंसीपल एचपीएस सीनियर सैकण्डरी स्कूल, शेरगढ़ तथा हरियाणा पब्लिक स्कूल, मंडी डबवाली आज आपसे ग्रीष्मावकाश को लेकर रूबरू हो रहा हूँ।  
पिछले कुछ महीने आपके बच्चों की देखभाल करने में हमें अच्छा लगा।
आपने गौर किया होगा कि उन्हें स्कूल आना बहुत अच्छा लगता है।
अगले लगभग सवा महीना उनके प्राकृतिक संरक्षक यानी आप उनके साथ छुट्टियां बिताएंगे। 
मैं आपको कुछ टिप्स दे रहा हूँ जिससे ये समय उनके लिए उपयोगी और खुशनुमा साबित हो।
– अपने बच्चों के साथ कम से कम दो बार खाना जरूर खाएं। उन्हें किसानों के महत्व और उनके कठिन परिश्रम के बारे में बताएं। और उन्हें बताएं कि अपना खाना बेकार न करें।
– खाने के बाद उन्हें अपनी प्लेटें खुद धोने दें। इस तरह के कामों से बच्चे मेहनत की कीमत समझेंगे।
– उन्हें अपने साथ खाना बनाने में मदद करने दें। उन्हें उनके लिए सब्जी या फिर सलाद बनाने दें।
– तीन पड़ोसियों के घर जाएं. उनके बारे में और जानें और घनिष्ठता बढ़ाएं।
– दादा-दादी/ नाना-नानी के घर जाएं और उन्हें बच्चों के साथ घुलने मिलने दें. उनका प्यार और भावनात्मक सहारा आपके बच्चों के लिए बहुत जरूरी है। उनके साथ तस्वीरें लें।
– उन्हें अपने काम करने की जगह पर लेकर जाएं जिससे वो समझ सकें कि आप परिवार के लिए कितनी मेहनत करते हैं।
– किसी भी स्थानीय त्योहार या स्थानीय बाजार को मिस न करें।
– अपने बच्चों को किचन गार्डन बनाने के लिए बीज बोने के लिए प्रेरित करें. पेड़ पौधों के बारे में जानकारी होना भी आपके बच्चे के विकास के लिए जरूरी है।
– अपने बचपन और अपने परिवार के इतिहास के बारे में बच्चों को बताएं।
– अपने बच्चों का बाहर जाकर खेलने दें, चोट लगने दें, गंदा होने दें. कभी कभार गिरना और दर्द सहना उनके लिए अच्छा है. सोफे के कुशन जैसी आराम की जिंदगी आपके बच्चों को आलसी बना देगी।
– उन्हें कोई पालतू जानवर जैसे कुत्ता, बिल्ली, चिड़िया या मछली पालने दें।
– उन्हें कुछ लोक गीत सुनाएं।
– अपने बच्चों के लिए रंग बिरंगी तस्वीरों वाली कुछ कहानी की किताबें लेकर आएं।
– अपने बच्चों को टीवी, मोबाइल फोन, कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से दूर रखें। इन सबके लिए तो उनका पूरा जीवन पड़ा है।
– उन्हें चॉकलेट्स, जैली, क्रीम केक, चिप्स, गैस वाले पेय पदार्थ और पफ्स जैसे बेकरी प्रोडक्ट्स और समोसे जैसे तले हुए खाद्य पदार्थ देने से बचें।
– अपने बच्चों की आंखों में देखें और ईश्वर को धन्यवाद दें कि उन्होंने इतना अच्छा तोहफा आपको दिया। अब से आने वाले कुछ सालों में वो नई ऊंचाइयों पर होंगे।
– माता-पिता होने के नाते ये जरूरी है कि आप अपना समय बच्चों को दें।
अगर आप माता-पिता हैं तो इसे सुनकर आपकी आंखें नम जरूर हुई होंगी. और आखें अगर नम हैं तो वजह साफ है कि आपके बच्चे वास्तव में इन सब चीजों से दूर हैं।
इस विडियो में कहा गया एक-एक शब्द आपको ये बता रहा है कि जब हम छोटे थे तो ये सब बातें हमारी जीवनशैली का हिस्सा थीं, जिसके साथ हम बड़े हुए हैं, लेकिन आज हमारे ही बच्चे इन सब चीजों से दूर हैं, जिसकी वजह हम खुद हैं।
तो आइए एचपीएस के इस प्रयास को केवल मात्र एक विडियो समझकर ना देखें और ना ही सुनें।
इसे व्यवहार में लाएं और आने वाले कल को सरल व सुगम बनांए।

Leave a Reply

Check Also

आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी को पुष्पांंजलि भेंट कर किया नमन

आजाद हिंद फौज क…