Home सिरसा सिरसा 141 गांवों के किसानों को पराली न जलाने के लिए विभाग करेगा जागरूक

सिरसा 141 गांवों के किसानों को पराली न जलाने के लिए विभाग करेगा जागरूक

9 second read
0
0
42

141 गांवों में रैली के माध्यम से लोगों को किया जाएगा पराली न जलाने के लिए जागरूक
सिरसा, 17 नवंबर।
उपायुक्त अनीश यादव ने बताया कि पर्यावरण बचाने के उद्देश्य से पराली न जलाने का संदेश देते हुए किसानों को पराली प्रबंधन के बारे में प्रेरित किया जाएगा। 18 नवंबर (शुक्रवार) को एक साथ पराली जलाने के संभावित 141 गांवों में इस मुहिम की शुरुआत की जाएगी। छात्रों द्वारा जागरूकता रैली के माध्यम से न केवल पराली जलाने से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक किया जाएगा बल्कि पराली के धुएं से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान के बारे में भी अवगत करवाया जाएगा। इसके साथ-साथ पराली प्रबंधन के बारे में बताया जाएगा और भूमि की उर्वरा शक्ति को पराली जलाने से होने वाले नुकसान के बारे में भी जानकारी दी जाएगी।
उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा पराली न जलाने व पराली प्रबंधन को लेकर विभिन्न माध्यमों से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। गांवों में रैलियों के माध्यम से लोगों को पराली न जलाने व पर्यावरण स्वच्छता के महत्व का संदेश देते हुए लोगों को पराली प्रबंधन के लिए प्रेरित किया जाएगा। जागरूकता गतिविधियों को प्रभावी बनाने के उद्देश्य से इसमें विभिन्न विभागों को शामिल किया गया है, जोकि अपने-अपने विभाग की ओर से लोगों को पराली न जलाने के लिए जागरूक करेंगे। इसके साथ ही जागरूकता कार्यक्रमों में सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाएगा। इस मुहिम में कृषि, राजस्व, विकास एवं पंचायत विभाग, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, नेहरू युवा केंद्र आदि विभाग जागरूकता गतिविधियां आयोजित करेंगे। उन्होंने बताया कि पराली जलाने से पर्यावरण में प्रदूषण का स्तर बढ़ता है जिससे बुजुर्गों व बच्चों को सांस के रोग व अन्य बीमारियां पैदा होती है। इसके अलावा भूमि से मित्र कीट नष्ट होते हैं और उपजाऊ शक्ति भी कम होती है।

इन गांवों में चलाया जाएगा विशेष जागरूकता अभियान :
बड़ागुढा के गांव रंगा, सुरतिया, अलीकां, रोड़ी, दौलतपुर खेड़ा, झोरडऱोही, मलड़ी, मत्तड़, नागोकी, पक्का, फग्गू, स्वाईपुर, लहंगेवाला, बुढ़ाभाना, बुर्ज कर्मगढ़, नेजाडेला खुर्द, मल्लेवाला, बप्प, किराडक़ोट, खंड डबवाली के गांव पन्नीवाला मोरिकां, देसुजोधा, मांगेआना, मौजगढ़, लोहगढ़, चौटाला, गंगा, गांव डबवाली, सक्ताखेड़ा, जोतांवाली, नीलांवाली, दीवानखेड़ा, खुइयां मलकाना, गिदडख़ेड़ा, मसीतां, लंबी, नया राजपुरा, अबुबशहर, जंडवाला बिश्नोइयां, सुखेरावाला, लक्खुआना, तेजाखेड़ा में जागरूकता मुहिम चलाई जाएगी। इसके अलावा खंड ऐलनाबाद के गांव मिर्जापुर, कुंभथल, कुत्ताबढ़, मिठनपुरा, मोजूखेड़ा, प्रतापनगर, पट्टी कृपाल, तलवाड़ा खुर्द, ठोबरिया, अमृतसर, ऐलनाबाद, केसुपुरा, ममेरां, रत्ताखेड़ा, जीवन नगर, हिमायुखेड़ा, करीवाला, मल्लेकां, खंड नाथूसरी चोपटा के गांव जोधकां, नहरांवाली, दड़बा कलां, मोचीवाली, नाथूसरी कलां, मोडियाखेड़ा, खंड ओढां के गांव देसुमलकाना, हस्सू, असीर, दादू, धर्मपुरा, केवल, खोखर, नौरंग, मिठड़ी, माखा, चकेरियां, कालांवाली, तख्तमाल, गदराना, टिगरी, च_ा, खंड रानिया के गांव बणी, रानियां, अभोली, बचेर, बालासर, भड़ोलावाली, धनूर, गिदड़ांवाली, सैनपाल, सुलतानपुरिया, बाहिया, धोतड़, फिरोजाबाद, हरिपुरा, मौजदीन, मोहम्मदपुरिया, नकोड़ा, नानुआना, ओटू में जागरूकता मुहिम चलाई जाएगी। साथ ही खंड सिरसा के गांव भावदीन, फरवाई, कासनखेड़ा, माधोसिंघाना

Leave a Reply

Check Also

पराली प्रबंधन एवं पर्यावरण संरक्षण विषय पर गांव मिठड़ी में चौपाल बैठक का आयोजन

राष्ट्रीय बाल …