Home मंडी डबवाली कालांवाली से चुनाव लड़े अकाली नेता राजेंद्र सिंह देसूजोधा को अमित सिहाग का करारा जवाब

कालांवाली से चुनाव लड़े अकाली नेता राजेंद्र सिंह देसूजोधा को अमित सिहाग का करारा जवाब

10 second read
0
0
1,364

डबवाली-
अकाली नेता पर चोट लगे देर हुई, दर्द अब जाकर उठा आदि पंक्तियां पूरी तरह स्टीक बैठती हैं। दरअसल करीब एक महीना पहले गत 12 अक्टूबर को मुख्यमंत्री ने उन पर यह कह कर उन पर चोट लगाई थी कि वह और उनका परिवार नशे के कारोबार में लिप्त है, इसीलिए उनकी टिकट काटता हूं। लेकिन मुख्यमंत्री की इस चोट का दर्द उन्हें 9 नवंबर को जाकर उठा है। यह बात सोमवार को चौटाला पर स्थित निजी होटल के सभागार हाल में आयोजित पत्रकार वार्ता में कालांवाली से चुनाव लड़े अकाली नेता राजेंद्र सिंह देसूजोधा द्वारा की जा रही बयानबाजी का जवाब देते हुए कही।
अमित सिहाग ने कहा कि अपनी पत्नी व बच्चे की कसम खाकर व अपने भाई के साथ खून व लेन-देन का रिश्ता तोडऩे की बात कहकर अकाली नेता खुद को पाक साफ साबित नहीं कर सकते। न ही मुझ पर बेबुनियाद आरोप लगाकर वह सही साबित हो सकते हैं। मेरी अकाली नेता को सलाह है कि अगर वह खुद को सही साबित करना चाहते हैं तो मुख्यमंत्री ने उन पर जो लांछन लगाया है, उसके लिए मुख्यमंत्री को नोटिस भेजकर उन्हें माफी मांगने के लिए कहे। यदि वे नहीं मांगते तो कोर्ट में मानहानि का केस कर दें ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके। अमित सिहाग ने कहा कि यदि मेरे डोप टेस्ट करवाने से वह पाक साफ सिद्ध हो सकते हैं तो मैं किसी भी समय किसी भी अस्पताल में अपना डोप टेस्ट करवाने के लिए भी तैयार हूं। सही मायने में मुझे अपने चरित्र के लिए उनसे सर्टिफिकेट की जरुरत नही है, मेरे चरित्र पर डबवाली की जनता अपनी मोहर लगा चुकी है और यह अधिकार जनता के पास ही है।
अमित सिहाग ने कहा कि वास्तव में मैने व मेरे पिता डा. केवी सिंह ने संकल्प लिया था कि चिट्टे की समस्या को हटाने का हर संभव प्रयास करेंगे। उसी के मद्देनजर मैने पूरी गंभीरता से विधानसभा सत्र के पहले ही दिन नशे के खिलाफ आवाज उठाई और मुख्यमंत्री को भी कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया। साथ ही उपरोक्त नुमाइंदे पर मुख्यमंत्री ने ही नशा कारोबार लिप्त होने का आरोप लगाया था और मैने उनकी बात को दोहराते हुए ही सवाल पूछा था कि अगर आपके संज्ञान में है कि कौन-कौन चिट्टे का कारोबार कर रहे हैं तो आपने अभी तक कोई कानूनी कार्रवाई क्यों नहीं की।
अमित सिहाग ने कहा कि मुझ पर बेबुनियाद टिप्पणी करने से यह सिद्ध नहीं होगा कि वे नशे के कारोबार में लिप्त हैं या नहीं। वास्तव में अकाली नेता ने अपनी राजनीतिक जमीन बचाने के लिए हलके स्तर की बयानबाजी की है और चिट्टे नशे की जो समस्या है उसके बारे में अभी तक भी कुछ नहीं कहा है। अमित सिहाग ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उक्त नुमाइंदे के गांव के लोग बताते हैं कि देसूजोधा में नशे का उक्त कारोबार फल फूल रहा है। विधायक अमित सिहाग ने कहा कि इसे लेकर वे शीघ्र ही एसपी से मिलेंगे और उक्त गांव में पुलिस पोस्ट स्थापित करने की मांग करुंगा। अमित सिहाग ने इस बात के लिए मुख्यमंत्री की सराहना की कि विधानसभा में मेरे द्वारा यह मुद्दा उठाने के बाद मुख्यमंत्री ने एसटीएफ का गठन करने की बात कही है और एनजीओ की भी भूमिका रहेगी। लेकिन अब यह आने वाले समय में पता चलेगा कि इस दिशा में वो कितनी गंभीरता से प्रयास करते हैं। अमित सिह ने कहा कि नशे के अलावा डबवाली शहर की अन्य समस्याओं को भी लोगों से मिलकर जानने की मुहिम मैने शुरु कर दी है ताकि उनका समाधान करने के लिए उचित कदम उठाए जा सकें। पार्षदों के साथ भी बैठक कर इस बात का प्रयास किया जाएगा कि वे आपसी मनमुटाव व मतभेद भुलाकर नगरपरिषद के माध्यम से जनसमस्याओं को दूर करने के लिए मिलकर कार्य करें। अंत में अपना संकल्प फिर दोहराया कि वे हर बात पर राजनीति करने की बजाय डबवाली इलाके के लोगों की सभी समस्याओं का गंभीरता से समाधान करवाने के लिए आगे बढ़ेंगे। इसके लिए जल्द ही विस्तृत रुपरेखा सामने लेकर आएंगे ताकि सुधार का कार्य शीघ्र व प्रभावी ढंग से शुरु हो सके। इस अवसर पर कांग्रेस नेता मदन भांभु, शहरी प्रधान पवन गर्ग, केशव शर्मा, पार्षद विनोद बांसल, रविंद्र बिंदु, मधु बागड़ी, युद्धवीर रंगीला, रविंद्र बबलू, अंजु बाला, दीपक गर्ग काला, जगदीप सूर्या, युवा कांग्रेस नेता अमन भारद्वाज, प्रशांत गर्ग, जगजीत सिंह मौजूद थे।

Leave a Reply

Check Also

दंपति ने शादी की 54वीं सालगिरह पर विद्यालय में लगाएं 54 पौधे

दंपति ने शादी क…