Home मंडी डबवाली चिट्टे का नशा व कैंसर की बीमारी के प्रति हरियाणा सरकार विफल-रणदीप सिंह मट्टदादू 

चिट्टे का नशा व कैंसर की बीमारी के प्रति हरियाणा सरकार विफल-रणदीप सिंह मट्टदादू 

9 second read
0
0
2,403
चिट्टे का नशा व कैंसर की बीमारी के प्रति हरियाणा की भाजपा सरकार विफल-रणदीप सिंह मट्टदादू 
मंडी डबवाली
हल्का डबवाली में फैल रहे चिट्टे के नशे का कारोबार व युवाओं द्वारा इसका सेवन करने जैसी गंभीर समस्या व कैंसर जैसी गंभीर बीमारी पर भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए ब्लॉक समिति सदस्य व युवा जजपा नेता रणदीप सिंह मट्टदादू ने कहा कि भाजपा सरकार का कार्यकाल पूरा होने को है पर सरकार ने इन समस्याओं के लिए कोई नीति नही बनाई। प्रेस व्यगपति जारी करते हुए कहा कि पूरे प्रदेश के साथ साथ खासकर डबवाली हल्के के लोग शरेआम चिट्टा बिकना व कैंसर की बीमारी से बहुत परेशान है। घरों के चिराग इस कि लपेट में आकर हर रोज़ अपनी जिंदगियां गंवा रहे है और जनता अत्यंत परेशान है। 
पिछले कुछ समय से क्षेत्र में सामाजिक संस्थाओं और कई गांवों की पंचायत भी इनकी रोकथाम के लिए आगे आयी हैं परंतु इसका जमीनी स्तर पर कोई असर सामने नई आया है। उन्होंने बताया का इलाके का एक भी गांव ऐसा नहीं बचा है यहां युवा चिट्टे का सेवन न करते हों। अगर डबवाली शहर की बात करें तो हर गली मोहल्ले में चिट्टा शरेआम बिक रहा है और प्रशाशन की कमजोरी साफ दिखती है। इस वजह से नशेडियों द्वारा आये दिन छीना छपटी की वारदातों को इंजाम दिया जा रहा है। पिछले दिनों गांव झुटीखेड़ा की मां बेटी के साथ हुई वारदात इस बात का सबूत है कि यह समस्या अब नासूर बन चुकी है। इस घटना के बाद जब ग्रमीणों ने महापंचायत के रूप में गोरीवाला में धरने लगाए गए तो उसके बाद पुलिस ने जरूर क़ुछ दिनों तक सख्ती दिखाई और कुछ गैर सामाजिक अनसर और नशा तस्करों पर नकेल कसी। रणदीप सिंह मट्टदादू ने प्रेस के मार्फत पुलिस जिला प्रशाशन व डबवाली पुलिस प्रशाशन को कहा कि अगर पुलिस नियमत तरीके से ऐसे ही काम करे तो जनता को कुछ राहत जरूर मिल सकती है।
सरकार की विफलता गिनाते हुए उन्होंने कहा भाजपा सरकार चिट्टे के नशे को बिकने से रोकने के लिए विफल रही है और न ही डबवाली के सरकारी अस्पताल में कोई नशा छुड़ाओ केंद्र है और न ही सरकार द्वारा नशे के खिलाफ कोई जन चेतना जैसा कदम उठाया गया है। सीधे तौर पर प्रदेश की भाजपा सरकार क्षेत्र में इस समस्या के लिए जिम्मेवार है।
वही उनके द्वारा उठायी गयी कैंसर बीमारी की समस्या पर उन्होंने कहा कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी ने क्षेत्र में अपने जड़ पूरी तरह पसार ली है। बड़ी दुख की बात है कि भजपा सरकार का कार्यकाल पूरा होने को है और बार बार राजनीतिक व सामाजिक संस्थाओं द्वारा अनेक पटल पर सरकार को इस गंभीर समस्या के बारे में अवगत कराया गया पर सरकार ने इस समस्या के हल के लिए इलाके में कोई कार्य नही किया। यह बड़ी दुख की बात है कि जनता द्वारा चुनी गया सरकार इस तरह एक गंभीर बीमारी के प्रति जनता को नजरअंदाज कर रही है। हमारे इलाके में इस बीमारी के फैलने का मुख्य कारण खराब पानी, खेतों में अत्यंत उर्वरक, कीटनाशक, कीड़ेमार आदि दवाओं का उपयोग करना व खाना व रोज़मर्रा की जिंदगी में अत्यंत प्लास्टीक का उपयोग करना है। हमारा भोजन, दूध, पानी और सब खाने लायक पदार्थ दूषित हो चुके है। परन्तु सरकार द्वारा इस और कोई कदम नही उठाया गया है। उन्होंने कहा कि हजारों लोग इस बीमारी का इलाज कराने के लिए बीकानेर, दिल्ली व चंडीगढ़ जाते है और आमजन व गरीब परिवारों के लिए तो इलाज का खर्च उठाना मुश्किल हो गया है। इस इलाके में एक बड़े कैंसर हॉस्पिटल की अत्यधिक जरूरत है और साथ ही इस बीमारी पर बड़े स्तर पर जागरूकता अभ्यांन कि जरूरत है। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों व समाजिक संस्थाओं और एन जी ओ से अप्पील की की इस समस्याओं से इलाके को मुक्त कराने के लिए एकजुटता से कार्य किया जाए।
मंडी डबवाली-
हल्का डबवाली में फैल रहे चिट्टे के नशे का कारोबार व युवाओं द्वारा इसका सेवन करने जैसी गंभीर समस्या व कैंसर जैसी गंभीर बीमारी पर भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए ब्लॉक समिति सदस्य व युवा जजपा नेता रणदीप सिंह मट्टदादू ने कहा कि भाजपा सरकार का कार्यकाल पूरा होने को है पर सरकार ने इन समस्याओं के लिए कोई नीति नही बनाई। प्रेस व्यगपति जारी करते हुए कहा कि पूरे प्रदेश के साथ साथ खासकर डबवाली हल्के के लोग शरेआम चिट्टा बिकना व कैंसर की बीमारी से बहुत परेशान है। घरों के चिराग इस कि लपेट में आकर हर रोज़ अपनी जिंदगियां गंवा रहे है और जनता अत्यंत परेशान है। 
पिछले कुछ समय से क्षेत्र में सामाजिक संस्थाओं और कई गांवों की पंचायत भी इनकी रोकथाम के लिए आगे आयी हैं परंतु इसका जमीनी स्तर पर कोई असर सामने नई आया है। उन्होंने बताया का इलाके का एक भी गांव ऐसा नहीं बचा है यहां युवा चिट्टे का सेवन न करते हों। अगर डबवाली शहर की बात करें तो हर गली मोहल्ले में चिट्टा शरेआम बिक रहा है और प्रशाशन की कमजोरी साफ दिखती है। इस वजह से नशेडियों द्वारा आये दिन छीना छपटी की वारदातों को इंजाम दिया जा रहा है। पिछले दिनों गांव झुटीखेड़ा की मां बेटी के साथ हुई वारदात इस बात का सबूत है कि यह समस्या अब नासूर बन चुकी है। इस घटना के बाद जब ग्रमीणों ने महापंचायत के रूप में गोरीवाला में धरने लगाए गए तो उसके बाद पुलिस ने जरूर क़ुछ दिनों तक सख्ती दिखाई और कुछ गैर सामाजिक अनसर और नशा तस्करों पर नकेल कसी।
रणदीप सिंह मट्टदादू ने प्रेस के मार्फत पुलिस जिला प्रशाशन व डबवाली पुलिस प्रशाशन को कहा कि अगर पुलिस नियमत तरीके से ऐसे ही काम करे तो जनता को कुछ राहत जरूर मिल सकती है।
सरकार की विफलता गिनाते हुए उन्होंने कहा भाजपा सरकार चिट्टे के नशे को बिकने से रोकने के लिए विफल रही है और न ही डबवाली के सरकारी अस्पताल में कोई नशा छुड़ाओ केंद्र है और न ही सरकार द्वारा नशे के खिलाफ कोई जन चेतना जैसा कदम उठाया गया है।
सीधे तौर पर प्रदेश की भाजपा सरकार क्षेत्र में इस समस्या के लिए जिम्मेवार है।
वही उनके द्वारा उठायी गयी कैंसर बीमारी की समस्या पर उन्होंने कहा कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी ने क्षेत्र में अपने जड़ पूरी तरह पसार ली है। बड़ी दुख की बात है कि भजपा सरकार का कार्यकाल पूरा होने को है और बार बार राजनीतिक व सामाजिक संस्थाओं द्वारा अनेक पटल पर सरकार को इस गंभीर समस्या के बारे में अवगत कराया गया पर सरकार ने इस समस्या के हल के लिए इलाके में कोई कार्य नही किया।
यह बड़ी दुख की बात है कि जनता द्वारा चुनी गया सरकार इस तरह एक गंभीर बीमारी के प्रति जनता को नजरअंदाज कर रही है। हमारे इलाके में इस बीमारी के फैलने का मुख्य कारण खराब पानी, खेतों में अत्यंत उर्वरक, कीटनाशक, कीड़ेमार आदि दवाओं का उपयोग करना व खाना व रोज़मर्रा की जिंदगी में अत्यंत प्लास्टीक का उपयोग करना है। हमारा भोजन, दूध, पानी और सब खाने लायक पदार्थ दूषित हो चुके है। परन्तु सरकार द्वारा इस और कोई कदम नही उठाया गया है।
उन्होंने कहा कि हजारों लोग इस बीमारी का इलाज कराने के लिए बीकानेर, दिल्ली व चंडीगढ़ जाते है और आमजन व गरीब परिवारों के लिए तो इलाज का खर्च उठाना मुश्किल हो गया है। इस इलाके में एक बड़े कैंसर हॉस्पिटल की अत्यधिक जरूरत है और साथ ही इस बीमारी पर बड़े स्तर पर जागरूकता अभ्यांन कि जरूरत है।
उन्होंने सभी राजनीतिक दलों व समाजिक संस्थाओं और एन जी ओ से अप्पील की की इस समस्याओं से इलाके को मुक्त कराने के लिए एकजुटता से कार्य किया जाए।

Leave a Reply

Check Also

सिरसा 141 गांवों के किसानों को पराली न जलाने के लिए विभाग करेगा जागरूक

141 गांवों में रैल…