Home राज्य हरयाणा दिल्‍ली-हरियाणा बॉर्डर पर आना-जाना है तो ई-पास के लिए देनी होंगी ये डिटेल्‍स

दिल्‍ली-हरियाणा बॉर्डर पर आना-जाना है तो ई-पास के लिए देनी होंगी ये डिटेल्‍स

13 second read
0
0
511

तेज़ हरियाणा नेटवर्क, डिजिटल डेस्क।
हरियाणा सरकार ने आखिरकार दिल्‍ली से लगे बॉर्डर को खोल दिया है। अभी सिर्फ जरूरी सेवाओं में लगे कर्मचारियों को ही बॉर्डर क्रॉस करने दिया जाएगा। दो दिन पहले, दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देश के बाद बॉर्डर खोला गया है। हरियाणा पुलिस ने दिल्ली से गुरुग्राम की ओर जाने के लिए एक लेन खोली है। दिल्ली जल बोर्ड, एमसीडी, डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, सब्जी और फल विक्रेताओं और आवश्यक सेवाओं से जुड़े अन्य व्यक्तियों के कर्मचारियों को इससे राहत मिली है। हालांकि, दिल्‍ली सरकार को अपने उन कर्मचारियों की डिटेल्‍स देनी होंगी जो हरियाणा के जिलों में एंट्री चाहते हैं। एग्जिट के लिए भी डिटेल्‍स मुहैया करानी होंगी।

बॉर्डर पार करने के लिए एक ही प्रॉसेस:
हरियाणा का प्‍लान है कि अप्लिकेशन मिलने के 30 मिनट के भीतर पास जारी कर दिया जाए। प्रिंसिपल सेक्रेट्री (जनरल एडमिनिस्‍ट्रेशन) विजयेंद्र कुमार ने टीओआई को बताया कि ‘आधे घंटे के भीतर पास जेनरेट करने के लिए सॉफ्टवेयर बदलना होगा।’ उन्‍होंने कहा, “हम दिल्‍ली सरकार के विभागों को हमारे पास रजिस्‍टर होने के लिए कहेंगे। उन्‍हें एक यूजरनेम, लॉगिन आईी और पासवर्ड दिया जाएगा ताकि वह अपने कर्मचारियों की जानकारियां दे सकें और उनकी अप्लिकेशन वेरिफाई हो सके। अस्‍पताल समेत सभी जरूरी सेवाओं में लगे संस्‍थानों को यही प्रॉसेस फॉलो करना होगा।”

आरोग्‍य सेतु ऐप से मैच होगा डेटा:
संस्‍थान एक बार अपने कर्मचारियों का डेटा देंगे, उसके बाद कर्मचारियों को Saral Haryana पोर्टल पर ई-पास के लिए अप्‍लाई करना होगा। पोर्टल ऑपरेटर्स फिर संबंधित संस्थान को कॉल करेंगे और यह वेरिफाई करेंगे कि कर्मचारी उन्‍हीं के यहां काम करता है। आरोग्‍य सेतु ऐप के डेटाबेस में भी एप्लिकेंट की जानकारी वेरिफाई की जाएगी। यह भी देखा जाएगा कि वह कोरोना से पीड़‍ित या रिस्‍क जोन में तो नहीं रहते। वेरिफिकेशन के बाद, 30 मिनट या उससे पहले ई-पास जारी कर दिए जाएंगे। यह पास पूरे लॉकडाउन की अवधि के लिए होंगे।

एक-एक जाने दी जा रहीं गाड़‍ियां:
गुरुग्राम के जिला मजिस्ट्रेट अमित खत्री ने कहा कि वह अदालत के आदेश का पालन कर रहे हैं। ढील मिलने के बाद, सरहुल टोल प्लाजा पर दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेस-वे के बैरिकेड्स पर वाहनों को रोका गया। वैध पहचान पत्र या अनुमति पत्र दिखाने के बाद एक-एक करके प्रवेश कराया गया। इसी तरह का नजारा एमजी रोड पर नाथूपुर सीमा पर दिखाई दिया।

Leave a Reply

Check Also

डबवाली के विधायक अमित सिहाग ने बढ़ रहे करोना संक्रमण पर व्यक्त की गहरी चिंता

सरकार की गलत स्…